शनिवार, 11 फ़रवरी 2017

आजादी

सीखना है चुप रहना 
या जारी रखनी है आवाज उठाने की आजादी 

सीखना है सर झुका के रखना 
या जारी रखनी है सर उठा के जीने की आजादी 

सीखना है रेंगना 
या जारी रखनी है कुलांचे भरने  की आजादी 

सीखना है दिमाग बंद रखना 
या जारी रखनी है सोचने  की आजादी

भविष्य का फैसला है आज पर टिका है



Follow by Email