शुक्रवार, 9 सितंबर 2011

कुछ नया लाओ न

ऊबली हुई चाय की पत्तियों के जैसे ।
बेअसर से हो चले हैं पुराने दर्द ॥
कुछ नया लाओ न।

Follow by Email