बुधवार, 11 फ़रवरी 2009

डंडा और झंडा

लखनऊ में एक राजनैतिक दल का लोकसभा प्रत्याशी काफ़ी दिनों से जम के प्रचार में जुटा हुआ है । उसके झंडे और बैनर देख कर महीनो से लग रहा है कि लोकसभा चुनाव हफ्ते भर में ही है। पता नही इस तरह पानी की तरह बहाए जा रहे पैसे को चुनाव आयोग उम्मीदवार के चुनाव खर्च में मानेगा या नही । सोचने वाली बात यह है जो चुनाव के एक साल पहले से चुनावी तौर तरीके से प्रचार में पैसा बहा रहा है उसने वो पैसा कमाया कैसे होगा ।
खैर!
दो दिन पहले हम सब्जी खरीद रहे थे तो हमने पाया कि पूरी सब्जी मण्डी में उसी प्रत्याशी के झंडे और बैनर हुए हैं।
हमने सब्जी वाले से पूछा कि बहुत बैनर लगा रखे हैं भाई! तो उसने बताया कि पार्टी वाले दे गए थे तो लगाना मजबूरी है । हमने पूछा कि ऐसी क्या मजबूरी है । तो पास वाले सब्जी वाले ने कहा कि जिसके हाथ में पुलिस है उसके बैनर लगना मजबूरी ही है भैया।
ऐसे चल रहा है उन महोदय का प्रचार
आख़िर डंडे के सहारे ही लगता है झंडा !

7 टिप्‍पणियां:

  1. जिसका डंडा उसका झंडा .....
    जय हो नेता जी की.

    उत्तर देंहटाएं
  2. these political parties are like the ten heads of ravan each doing its bit to tarnish democracy

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसका मतलब तो ये निकलता है कि आप चाहे जिसे जिता लें, डंडा तो जनता पर ही पड़ता है.
    चोर -चोर मौसेरे भाई जो ठहरे !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कह रहे हैं आप...आख़िर झंडा डंडे के सहारे ही लगता है. छोटी पर सोचने पर मजबूर करने वाली पोस्ट.
    क्या बात है आजकल लिखना थोड़ा कम हो गया है? रिशेशन ..यहाँ भी?

    उत्तर देंहटाएं
  5. चुनाव आयोग के डंडे से बचने के लिए अभी ही झंडे लहरा ले रहे हैं ये लोग.लेकिन सब्जी वालों पर पुलिसिया रौब की मज़बूरी दुखद है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर रचना .
    बधाई
    इस ब्लॉग पर एक नजर डालें "दादी माँ की कहानियाँ "
    http://dadimaakikahaniya.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

Follow by Email